महान आचार्य चाण्क्य ने  लोक कल्याण के लिए अपनी चाणक्य नीति में कई सफलता के राज बताएं हैं जिसमें आज मैं आप लोगों को एक राज बताने वाला हूं

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि फल पाना हमारे हाथ में नहीं है लेकिन कर्म करना हमारे हाथ में है इसी वजह कर्म अच्छे करते रहिए ऊपर वाला फल भी आपको भी अच्छे देगा चाहे इस जन्म में मिले या अगले जन्म में

महान आचार्य चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य के अंदर एक ऐसी चीज पाई जाती है जो कभी भी उसका पीछा नहीं छोड़ती हमेशा उसके पीछे रहती है

महान आचार्य चाणक्य कहते हैं कि यह चीज कभी भी आपका पीछा नहीं छोड़ती चाहे इस जन्म में हो या अगले जन्म में हमेशा आपके पीछे ही रहती है कभी आपका पीछा है नहीं छोड़ती

चाणक्य कहते हैं कि वह कर्म होता है जो कभी भी व्यक्ति का पीछा नहीं छोड़ता हमेशा उसके साथ ही रहता है कर्म जैसा करोगे वैसा ही फल मिलेगा कर्म कभी व्यक्ति का पीछा नहीं छोड़ता

कर्म जो होता है वह व्यक्ति का पीछा कभी नहीं छोड़ता चाहे इस जन्म में हो या अगले जन्म में कभी लोग कर्म इस जन्म में करते हैं फल उनको अगले जन्म में मिलता है

चाणक्य कहते हैं कि बहुत लॉगो को उनके कर्मों का फल इसी जन्म में भुगतना पड़ता है और बहुत लोगों को कर्मों का फल अगले जन्म में मिलता है

चाणक्य कहते हैं कि ना किसी के बारे में कभी बुरा करो ना अपने बारे में कभी बुरा सुनो