हेलो दोस्तो फिर से हाजिर हों एक नई चाणक्य नीति के साथ तो चलिए स्टार्ट करते है।

 चाणक्य कहते है। की अज्ञानी व्यक्ति कास्टदायी होता है।

 और इसी कारण मनुष्य उपहास का कारण बन जाता है।

 ज्ञानी मनुष्य हमेशा। अपने पास के। वातावरण को अच्छा बना देता हे।

 इसीलिए मनुष्य को हमेशा अपने जीवन में ज्ञान का संचार करते रहेना चाहिए।

 लेकिन चाणक्य की दृष्टि में जो मनुष्य दूसरे पर निर्भर रहते है वो हमेशा कष्ट में रहते हे।

 चाणक्य कहते है की मनुष्य को हमेशा आत्मनिर्भर होना चाहिए ।

 जो व्यक्ति दूसरो पर निर्भर रहता है। उसे दोसरो के इसरो पर कार्य करना पड़ता हे।

 आत: उचित यही हे की मनुष्य सबल होकर अपना जीवन व्यतीत करे।

 निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे और न्यू चाणक्य नीति पड़ने के लिए ।

 निचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे और न्यू चाणक्य नीति पड़ने के लिए । 

Burst