Student motivational story|| कि जीवन मे गुरु कि महिमा बहुत बड़ी हे साहब।|

Student motivational story|| कि जीवन मे गुरु कि महिमा बहुत बड़ी हे साहब।|
Student motivational story

Today fresh motivational story

आज मैं जो कहानी आप लोगों को सुनाने वाला हूं यह कहानी बहुत ही मजेदार होने वाली है क्योंकि इसमें आपको बताया जाएगा गुरु की महिमा यानी जीवन में एक आपका ek guru होना जरूरी होता है जिसको आप ब्लाइंड्ली फॉलो कर सकें क्योंकि गुरु की महिमा बड़ी है साहब गुरु से बढ़कर इस दुनिया में कोई भी नहीं है गुरु बड़े बड़े लोगों को लेना पड़ा भगवान तक के गुरु थे कृष्ण भगवान के गुरु थे राम जी के गुरु थे बड़े-बड़े लोगों के गुरु हैं तो इसी वजह गुरु की महिमा बहुत बड़ी है और आज मैं आपको इसी के ऊपर एक कहानी सुनाने वाला हूं कि देखिए गुरु की महिमा कैसी होती है गुरु चाहे जैसा भी हो आपके हमेशा हित में ही काम करता है चलिए इस कहानी को स्टार्ट करते हैं  Today fresh motivational story

Student motivational story

स्टोरी स्टार्ट होती है पुराने के गांव से जहां पर एक औरत रहती होती है और वह औरत एक साध्वी होती मतलब साधना  में लीन रहती है और वह नारायण की पूजा करती रहती है और नारायण को बहुत मानती है उनकी पूजा में लीन रहती है और वहां पर एक पेड़ होता है और उसके नीचे चबूतरा होता है वह रोज वहां पर जाती और नारायण की पूजा करती वहां पर बैठती साधना करती रोज का उसका नियम था अब क्या होता है रोज जाती है तो जब वहां पर जाकर अपने घर वापस आती है तो वहां पर एक चोर आ जाता है उसको देखता है वह घर पर है तो फिर वह साधु का रूप लेकर चला आता हे वहां पर तो उस नारी से बोलता है मैं अपने शिष्य को ढूंढ रहा हूं मुझे किसी को शिष्य बनाना है क्योंकि मैंने अपनी शिक्षा पूरी कर ली है अब मुझे किसी शिष्य को शिक्षा देनी है उसे भी अपने साथ रखना है तो वह नारी बोलती है कि ठीक है मैं आपकी  Student motivational story||

Today fresh motivational story

Guru ki mahami bhoud badi he sahab jivan me ek guru hona jaroori he.

शिष्य बनने के लिए तैयार हूं क्या आप मुझे शिक्षा देना पसंद करेंगे मैं आपसे शिक्षा लेने के लिए तैयार हूं तो वह वह जो चोर होता है जो साधु के वेश में आता है तो वह बोलता ठीक है मैं तुम्हें अपना शिष्य बनाने के लिए तैयार हूं लेकिन तुम्हें एक काम करना पड़ेगा कल तुम्हें जिस मंदिर जिस पेड़ के नीचे तुम रोज पूजा करने जाती हो उस जगह तुम्हें अपना पूरा गहना सब कुछ लेकर आना होगा क्योंकि तुम्हें ऐसा करना  होगा और मैं तुम्हें तभी शिक्षा देना प्रारंभ कर लूंगा वह जो नारी होती वह बोलती है ठीक है मैं कल सुबह वहां पहुंच जाऊंगी वह बोलता है ठीक है सब कुछ लेकर आना कुछ भी यहां मत छोड़ना मैं वहां पहुंच जाऊंगी फिर सब लोग वहां से चले जाते हो अपनी जगह। Today fresh motivational story

  •                          🙏 ‘सुविचार”🙏

जीवन मे एक गुरु जरुर बनाए क्योकि गुरु का महत्व जीवन मे बहुत बड़ा हे। बड़े बड़े लॉगो मे गुरु बनाए हे। यहाँ तक भगवान श्री कृष्ण के गुरु थे। भगवान श्री राम के गुरु थे। तो गुरु को जीवन मे बहुत बड़ा रोल हे।

अगले दिन सुबह वह नारी अपना सारा सामान लेकर उस जगह पहुंच जाती है फिर वहां पर वह चोर भी आता है वही गुरु के भेष में वह बोलता है ले आई तुम अपना सारा सामान हां वह कहती है ठीक है मैं अपना सारा सामान लिया है जैसा जैसा आपने कहा था मैंने वैसा वैसा किया है फिर वह जो चोर होता है वह बोलता है लाओ मुझे यह सब दे दो मैं इसे कहीं जाकर तुम्हारे अच्छे सुरक्षित जगह पर रख देता हूं और तुम जब कहोगी मैं तुम्हें लाकर दे दूंगा तो नारी बोलती ठीक है मैंने आपको अपना गुरु माना यह सब लीजिए आप ले जाइए उसको सुरक्षित जगह पर रख दीजिए अब नारी को क्या मालूम कि वह चोर रहता है अब वह जाएगा तो दोबारा वापस नहीं आएगा नारी को सब दे देती है  और वह जो चोर होता है वह बोलता है लेकिन मैं ऐसे नहीं जाऊंगा क्योंकि मुझे भरोसा नहीं है तुम यहां रुकोगी भी कि नहीं और यहां से कहीं चली गई तो मैं तुम्हें इसी पर से बांध के जा रहा हूं और मैं जब तक खोलो ना तब तक तुम्हें इसी पेड़ से बने रहना और किसी से भी खुलवाना नहीं है वह बोलती है ठीक है आप मेरे गुरु है आप जैसा कहेंगे मैं वैसा ही करूंगी आप मुझे बांध दीजिए वह उसे बांधकर वहां से चला जाता है अब वह तो चोर दोबारा वापस नहीं आने वाला था उसे तो बांध देता हूं उसका सारा गहना जेवर जितना भी होता सब लेकर चला जाता है अब वह इसी आसरे में रहती है कब आएगा एक दिन बीत जाता है और वह साधारण लड़की लड़की नहीं होती हे एक राजा की लड़की होती है उसके पिता राजा रहते हैं वह रोज देखने आते अपनी लड़की से मिलने आते तो अगले दिन भी आते हैं और देखते हैं वह अपने घर पर भी नहीं उस पेड़ के नीचे जाते जहां रोज साधना करने जाती होती है Student motivational story

, और देखते हैं वह नारी मतलब उसकी बेटी वहां पर भी नहीं वह बड़ा चिंतित हो जाते कि कहां गई और जस्ट उसके बगल में देखते हैं वह उसी पेड़ में बंधी हुई है तो वह उसे बोलते बेटी तुम्हें यहां कौन बांध गया मुझे बताओ मैं तुम्हें आओ खोल दूं तो वह बोलती नहीं मुझे मेरे गुरु बांध गए हैं  गुरु ने कहा है कि वहीं आकर मुझे खोलेंगे और मैं अब किसी से भी नहीं खुलवागे तो वह बोलता है एक तो तुम्हारा वह सारा जेवरात गएना पैसा सब लेकर चला गया है वह चोर अब वापस नहीं आने वाला लेकिन वह नारी मानती नहीं है कि मैं अपने  गुरु से  खुलआऊंगी मुझे बांध कर गय हे। और मुझसे कह कर गए कि मैं जब आऊंगा तभी तुम्हें खोलूंगा तो आप जाइए मैं आपसे नहीं खुलआऊंगी तो उनके पिताजी बहुत कहते हैं Student motivational story

और फिर उनके पिताजी वहां से चले जाते हैं अब वह 1 दिन बँधी रहती है अब जब उस नारायण की पूजा करती होती है तो नारायण भी उनके भरोसे बैठे होते कि अब मेरा भक्त मेरी मुझे  प्रसाद चढ़ा आएगी तो मैं उसे ग्रहण करूंगा 1 दिन बीत जाता है 2 दिन बीत जाता है वह पेड़ के नीचे आती ही नहीं है और ना वहां कोई प्रसाद चढ़ती है तो नारायण भी देखते रहते हैं कि मैं यहां अभी तक मेरी भक्त आई हि नहीं। मुझे पता चला है मैं भूखा बैठा हूं यह है फिर वह नारायण नारद मुनि को बुलाते उन्हें भेजते हैं देखो जाकर मेरी भक्त कहां है मुझे भोजन भी नहीं चढ़ाया मैं यहां भूखा बैठा हूं।Student motivational story

फिर भी जाते हैं ढूंढते हैं  तो देखते हे कि वो एक पेड़ से बँधी हे। तो उससे बोलते हे लाओ मे तुम्हें खोल दो। तो वह बोलती हे  कि मैं सिर्फ अपने गुरु से ही खुलवागी आप मुझे नहीं सकते हे।आप मुझे खोलने आए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद मुझे आपके दर्शन हो गए मैं इतने सालों से तपस्या कर रही हूं फिर भी मुझे आपके दर्शन नहीं हुए अब नारद मुनि बोलते हैं अरे मैं तो मैं तो खोल सकता हूं नहीं लेकिन आप भगवान होंगे लेकिन आप मेरे को खोल नहीं सकते खोलेगे तो सिर्फ मुझे मेरे गुरु ही वह कह कर गए हैं तुम किसी से भी नहीं खोलवागी मैं आऊंगा तभी खोलूंगा। तो नारद मुनि जी काफी कहते हे वह भी थक जाते हैं फिर वह नारायण के पास जाते नारायण से बोलते हैं प्रभु वह तो खोलने को तैयार ही नहीं है मैं तो बोला कि मैं खोल दो लेकिन नहीं वह तो  अपने गुरु से ही खोलवागी। और वह कोई चोर था उसे चोरी करके चला गया अब वै वापस भी नहीं आएगा कब तक ऐसे ही बँधी रहेगी। अब  नारायण जाते हैं Student motivational story

स्वयं नारायण जाते हैं नारी देखते हि बोलती हे। अरे मैं धन्य हो गई जो आपने मुझे दर्शन दिया लेकिन मैं खुलवांगी तो सिर्फ अपने गुरु से ही वह बोलता है नारायण बोलते हैं कि वह गुरु नहीं थे वह कोई चोर था तुम्हारा सारा सामान चोरी करके चला गया अब क्या फायदा लो मैं तुम्हें खोलदूं वो कहती नहीं आप भगवान हे। लेकिन मैं खुल आऊंगी तो सिर्फ अपने गुरु से ही। तो फिर बोलते हे। वो गुरु नहीं था चोर था तो नारी बोलती  है  देखी गुरु की महिमा गोविंद दियो मिलाय हम इतने साल से तपस्या कर रहे हैं आपकी अभी तक मुझे दर्शन नहीं हुए लेकिन गुरु क्या आए भगवान से स्वयं एक दिन में उन्होंने मिला दिया तो गुरु की महिमा जीवन में बहुत बड़े गुरु चोर हो चाहे जो हो अगर आपने उसको गुरु मान लिया है तो आपका हित् हि होगा अहित नहीं तो जीवन में जिसको आप अपना गुरु माने उसको ब्लाइंड्ली फॉलो कर।Student motivational story for life changing

तो इस कहानी से आपको क्या शिक्षा मिली। गुरु की महिमा बहुत बड़ी है बड़े-बड़े लोगों ने गुरु लिया है जहां तक की भगवानों के भी गुरु थे श्री कृष्ण जय श्री राम की भी गुरु थे तो गुरु बनाना  बुरी बात नहीं है जीवन में गुरु होना चाहिए।

जिसको आप जीवन भार फॉलो कर सके। Student motivational story

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *