Ads

motivational story for students in hindi || Luck क्या हे ||

Ads

motivational story for students in hindi|| Luck क्या हे ||,motivation_story in hindi , best story in hindi sonu sharma , new motivational story

आज मैं आप लोगों को ऐसी चीज के बारे में बताने वाला हूं जो शायद ही आप लोगों को किसी ने बताया होगा और आप लोगों ने यह बात बहुत लोगों के मुंह से सुनी होगी कि उसका तो

उसकी तो किस्मत बहुत साथ दे गई तो आज वह सक्सेसफुल हो गया है आज वह अपने किस मुकाम पर पहुंच गया उसका तो बहुत ही अच्छा है उसकी तो किस्मत बहुत ही अच्छी है यह आप लोगों ने बहुत लोगों के मुंह से सुना होगा अब आप लोग समझ ही गए होंगे मैं आप लोगों को किसके बारे में बताने वाला हु।

What is all about luck for motivational story for students in hindi

हा में आप लोगो को luck की परिभाषा बताने वाला हूं pronoune sesion ऑफ luck लगता है बहुत लोग कई लोगों का नाम लेते हैं कि बहुत लोग कहते हैं कि इसकी किस्मत अच्छी थी तो यह सक्सेसफुल हो गया मेरी किस्मत खराब है तो आज मैं यहीं के यहीं बैठा हूं देखो मेरे साथ वाले कहां पहुंच गए इनकी किस्मत इतनी अच्छी है मेरी तो इतनी खराब है मैं साला कुछ भी कर लूं कोई फायदा ही नहीं होता है तो आज मैं आप लोगों को बताने वाले हु। कि luck ki defination क्या होती हे।

What is pronounsesion of luck

आज मैं आप लोगों को एक कहानी के माध्यम से सब जाऊंगा कि luck क्या होता है और इसे किस तरीके फायदे में लिया जाता है इससे क्या होता है इसे क्या फायदे और क्या नुकसान है तो आज मैं आप लोगों को एक कहानी के माध्यम से बताऊंगा और कहानी है एक ऊंट और ऊंटनी के बच्चे की चलिए स्टार्ट करते हे what is luck

 

एक बार 1 उट और ऊंट का बच्चा चिड़ियाघर में होते हैं उट का बच्चा अपनी अपनी मां से पूछता है मां एक सवाल पूछूं तो बोलती हां बेटा पूछो तो बोलता है मां यह हमारे पीठ पर कूबड़ कैसा है तो माँ बोलती है बेटा यह कूबड इसलिए है जैसे हमें रेगिस्तान में मिलो दूर चलना होता है कभी-कभी हमें महीनों तक पानी नहीं मिलता है तो यह कूबड भगवान ने इसलिए दिया है कि हम पानी इस में स्टोर करके रख सके ताकि समय आने पर हम इसका इस्तेमाल कर सके इसलिए हमारी पीठ पर कूबड दिया गया है बच्चा सहमत हो जाता है बोलता है मैं दूसरा सवाल पूछे उसकी मां बोलती है बेटा पूछो

 

फिर उसका बच्चा अपनी अपनी मां से दूसरा सवाल पूछता है और बोलता है मां यह बताओ हमारी आंखों के ऊपर इतने बड़े बड़े बाल क्यों हैं तो बोलती बेटा यह बाल इस वजह दिए गए हैं कभी-कभी हमें रेगिस्तान में मिलो दूर चलना पड़ता है भोजन की तलाश में जिसकी वजह से कभी कभी रेगिस्तान में तूफान भी आ जाते हैं तो तूफान आने से जो रेत उड़ती है ना उन से बचाने के लिए यह बाल लगेंगे ताकि वह जो रेत है हमारी आंखों में ना जा पाए इसीलिए यह हमारी आंखों के ऊपर इतने बड़े बड़े बाल दिए गए हैं तो उस उठनी का बच्चा ठीक हे मे तीसरा सवाल पूछो फिर सवाल पूछता है और उसकी मां इस सवाल का आंसर दे देती है फिर उसका बच्चा इस सवाल से भी सहमत हो जाता है फिर वह तीसरा सवाल पूछता है कहता है मां तीसरा सवाल पूछूं तो उसकी मां

 

फिर उस उठनी का बच्चा अपनी अपनी मां से पूछता है कि मां मैं तीसरा सवाल पूछूं तो उसकी मां बोलती है हां बेटा पूछो वह बोलता है मां यह बताओ हमारे इतना बड़ा शरीर और इतने बड़े-बड़े चार पैर क्यों दिए हुए हैं हमें तो इसका कोई फायदा भी नहीं है तो उसकी मां बोलती है बेटा ऐसी कोई बात नहीं है हमें रेगिस्तान में मिलो दूर सफर तय करना होता है कभी-कभी भोजन या पानी की तलाश में कभी-कभी दूर-दूर तक चलना होता है तो इस वजह से हम जल्दी सफर तय कर पाए तो भगवान ने हमें बड़े-बड़े पैर दिए हुए हैं और बड़ा शरीर दिया हुआ है तो उसका बच्चा इस बात से भी सहमत हो जाता है कहता हे ठीक है माँ अब बोलता है मां मैं अंतिम सवाल पूछूं उसकी मां बोलती है बेटा पूछो

उठ का बच्चा अपनी अपनी मां से जो अंतिम सवाल पूछता है वह उसकी मां के चारों खाने चित कर देता है वह पूछता है मां तो हम इस समय चिड़ियाघर में क्या कर रहे हैं तो हम इस समय चिड़ियाघर में क्या कर रहे हैं अब आप लोग समझे इस कहानी से मैं आप लोगों को क्या बताना चाहता हूं इस कहानी का मोरल क्या है चलिए मैं आप लोगों को बताता हु।

 

कहानी का मोरल है कि आपके पास चाहे कितनी हि power क्यों ना हो यानी आपके पास कितनी ही कितने ही गुण क्यों ना हो अगर आप सही स्थान पर नहीं है तो आप लकी नहीं है अब आपको सोने का हथोड़ा दे दे और फिर बोलिए गेट तोड़ दो तो क्या तोड़ दोगे सोने के हाथोडे से अब आपको लोहे का हाथोडा दे दे और बोले गेट तोड़ दो तो आराम से तोड़ दोगे तो सोना भी वही काम आता है जहां उसकी जरूरत होती है और जहां उसकी जरूरत नहीं है तो सोना किसी काम का नहीं है तो जब तक आप सही जगह पर नहीं है तो लकी नहीं आपके पास चाहे कितना ही luck क्यों ना हो आप लकी नहीं अब आप एक बिजनेस मैंने हम आपको जुआ खेलने को बोल दे  तो आप खेल लेंगे उसमें जीत जाएंगे क्योंकि आप बिजनेस जानते हैं अगर जुए में आएंगे तो बोलेंगे मैं लकी नहीं हूं ऐसा कुछ नहीं होता है अगर आप सही जगह पर नहीं है तो आप lucky नहीं हो।

Moral of this story

 बस मैं आपको इतना ही समझाना चाहता हूं अगर आपको मेरे द्वारा बताए गए यह कहानी से कुछ सीखने को मिला है तो जरूर से नीचे एक कमेंट कर दे और मुझे बताए कि आपको क्या सीखने को मिला या और आप इसे अपने जीवन में आत्मसात करेंगे कि नहीं करेंगे चलिए मैं आप से अलविदा लेता हूं और मिलेंगे फिर एक नई कहानी और ने मोटिवेशनल से धन्यवाद मेरे इस कहानी को पढ़ने के लिए चलिए बाय बाय टाटा सी यू थैंक्यू

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version