Best Motivational story in hindi

10+short moral story in hindi || इन सभी कहानियो को जरुर पढ़े।

short moral story in hindi

 short moral story in hindi

कछुओं का पिकनिक ।।

एक जंगल मे एक कछुओं का परिवार रहता था और उस परिवार मे पाँच कछुए थे। और वो सभी लोग मिलकर प्लान बनाते हे कि चलो हम सभी लोग पिकनिक पर चलते हे। और सभी लोग आपस मे एक दूसरे से पूछ लेते हे। और बोलते ठीक हे हम सभी लोग पिकनिक पर चलने के लिए तैयार हे। और जो उन सभी ,कछुओं मे जो लीडर कछुआ होता  हे।best motivational story वो बोलता हे ठीक हे तो सभी लोग अपना समान पैक कर लो हम सब लोग निकलेगे।

आज मे आप लोगो को short moral story in हिंदी,best motivational story,motivational story in hindi,motivational kahani hindi, ,Hindi short stories with moral for kids

अब वाहा पर जितने लोग होते वो सभी लोग अपना अपना सामान पैक करना चालू कर देते हे। खाली उन कछुओं को अपना सामान पैक करते करते 5 साल बीत जाते हे। motivational story क्योकि कछुए इतना धीरे धीरे काम करते हे। तो इसी लिए उनको इतना टाईम लग जाता हे। अब सभी लोग अपना सामान पैक करके निकल पड़ते हे पिकनिक के लिए। और उनको पिकनिक के लिए जहां पर जाना होता वाहा तक जाते जाते उन्हें 7 से 8 साल का वक्त लग जाता हे। इतना टाईम बीत जाने के बाद वो वाह पर पहुँच जाते हे। moral story काफी घूमने के बाद उन सभी को भूख लग अति हे। और सभी कछुए बोलते हे चलो यहाँ पर रूककर लुक खा लेते हे। सभी लोग वाहा पर रुकते हे। और उनमे से एक सबके लिए खाना निकलता हे। short moral story in hindi

और परोसत्ता हे।और जैसे हि एक कछुआ उस खाने को टेस्ट करता हे तो उसमें नमक कम निकलता हे। सभी कछुए बोलते हे कि अब किसी एक वापस जाना पढेगे और घर से नमक लाना पड़ेगा। in hindi और सभी कछुए आपस मे बोलते हे तुम जाओ तुम जाओ । इसी मे 2 साल और बीत जाते हे। फिर आख़िरकार उनमे से एक मान जाता हे। और वो चला जाता हे। और उसके जाने के बाद एक साल बीत जाता 2 साल बीत जाता और उन बाकी कछुओं को और भी ज्यादा भूख लगने लगती हे। और सभी लोग उसी खाने को खाने लगते हे। motivational kahani in hindi

जैसे हि खाने को खाने जाते हे। तो वैसे हि वही पीछे पेड़ से वही कछुआ निकला कर आता हे और बोलता हे। मैंने तुम्हें पकड़ लिया तुम मेरे बिना आय हि खाना खाने जा रहे थे। फिर सभी लोग बोलते हे हमसे गलती हो गई हमें तुम्हरे बिना खाना खाना नहीं चाहिए।

तो इस कहानी से हमें क्या शिक्षा मिलती हे ।

हमें इस कहानी से ये शिक्षा मिलती हे कि कभी कभी ज्यादा दिमाग अपने लिए हि घातक बन जाता हे। यही किया उस कछुए ने ज्यादा दिमांग के चक्कर मे इनता टाईम तक भूखा रहना पढ़ा अगर वे यही चीज़ पहले कर लेते तो इतना इंतजार ना करना पड़ता। motivational

[HDquiz quiz = “47”]

short moral story in hindi

! अमीर और गरीब ! short moral story in hindi बेस्ट स्टोरी जरूर पढ़े।

अगर आप लोग भी क्या यही सोचते हे कि हम तो गरीब और देखो जो हमारे बगल मे रहते हे वो हमसे कितने अमीर हे।  देखो ye hindi kahani वो कितने अच्छे से रहते हे। और कितना अच्छा अच्छा खाते हे। कास हम भी अमीर होते तो कितना अच्छा होता और किसी ना किसी के मन यह भी ख्याल आता होगा कि इस धरती ओर जितने भी लोग हे। short moral story in हिंदी

अगर आपको जीवन मे आगे बढ़ना हे। और succes होना हे। तो इस को जरुर पढ़े।short moral story in hindi

उनका सभी का पैसा इक्कठा करके सबको बराबर से बाट दिया जये तो अच्छा होगा सभी लोग अमीर हो जाएंगे तो मे आप लॉगो कि जानकारी के लिए बता दूँ कि अगर सभी का पैसा इक्कठा करके सभी को बराबर मे बाट दिया जshort story in hindi सभी के हिस्से मे 30 30 लाख रूपए आएंगे और सभी लोग आमिर हो जायगे। और वही ये भी होगा कि सभी लोग अमिर तो हो जायगे और उसी के हिसाफ उनकी ज्रूरत भी बढ़ जाएगी। और उनके खर्चे भी। short moral

इसी वजह से सभी तरफ तेजी से मार्किट डाउन होने लगेगी और सभी लोग वापस से गरीब हो जाएंगे।

शिक्षा क्या हे।। शिक्षा यह हे कि पैसे से तो बहुत लोग अमीर हे। पर जो दिल से अमीर होते हे बे लोग पैसे वालोंं से भी ज्यादा अमीर होते हे। तो पैसों से नहीं दिल से आमिर बने।

 short moral story in hindi

” समझदार बन्दर कि कहानी short moral story in हिंदी “

एक बार कुछ वैज्ञानिक ने एक निर्णय लिया कि अगर हमारे पूर्वज बन्दर हि हे तो उनमे हम जैसे कुछ तो गुण होंगे। चलो इन पर कुछ एक्सपेरीमेन्ट करते हे।  फिर सभी वैज्ञानिक एक बड़ा सा पिंजरा लाते हे और उस अंदर एक बड़ी सी सीडी लगा देते हे उस पर कुछ केले रख देते हे।short moral story in hindi

और उसके बाद उस मे 5 बंदरो को डाल दिया गया। जैसे हि उसमें बंदरो को डाला गया तो वो सभी केले कि और जाने लगे। जैसी हि सभी सीडी चढने लगे। तो उनके ऊपर वैज्ञानिको ने ऊपर से पानी डाल दिया। जैसे हि सभी पर पानी पड़ा तो वो नीचे उतर आय।

और वैज्ञानिक बार बार यही करते रहे जैसे हि बन्दर  चढते उन पर पानी डाल देते। ऐसा हि बार बार करने पर वो सभी बन्दर यह समज गए कि ऊपर जाना मना हे। अब उन बन्दर मे कोई भी ऊपर जाने कि कोशिश भी नहीं कर रहा। अब वैज्ञानिक ने पानी डालना भी बंद कर दिया। अब वो चाहे तो अरम से जकर केले खा सकते हे। लेकिन् अब उन्मे से कोइ भि जाने कि कोसिस भि नही कर रहा।

शिक्षा। ये कि चलो वो तो बन्दर थे सही और गलत मे अंतर नहीं मालूम। लेकिन हम तो इंसान हे। कभी ऐसाभि हो जाता हे। कि कोई भी कुछ भी बोल देता हे और हम लोग वैसा हि करने लगते हे। और उससे पूछ्ते भी नहीं हे कि यह क्या हे और ये वजह करा जा रहा हे।

short moral story in hindi

4.महान वैज्ञानिक Albart inistine का रोचक किस्सा।short moral story in hindi

एक बार कि बात हे कि जब महान वैज्ञानिक Albart inistine एक ट्रेन मे सफर कर रहे होते हे। और वाहा पर कुछ डूड रहे हे होते काफी देर तक डूड रहे। होते हे। फिर वाहा पर tt आ जाता हे। वो उनसे बोलता हे। सर मुझे टिकट दिखा दीजिये। मे tt हो। फिर वो यह सुनकर यहाँ वाहा ढूढने लगते हे। फिर वो tt बोलता हे।

सर आप मुझे ये बताए कि आप क्या डूड रहे हे। तो Albart inistine बोलते मे टिकट डूड रहा हो मैंने टिकट लिया था पर वो कहीं गिर गई। वही डूड रहा हूँ। फिर वो tt बोलता हे। कि ठीक हे मे आपको जनता हो आप महान वैज्ञानिक Albart inistine हूँ अपने टिकट लिया होगा कोई बात नहीं गिर गया तो। यह बोलकर वो tt वाहा से चला जाता हे। लेकिन फिर वो ढूढने लगते हे। short moral story in hindi

थोड़ी देर बाद वही tt वापस आता हे तो देखता हे फिर वो कुछ डूड रहे होते हे तो बोलता हे सर मे जनता हूँ आपने टिकट लिया हे आपको टिकट देने कि कोई जरुरत नहीं हे।  फिर वो बोलते हे मे टिकट इस वजह नहीं डूड रहा कि मुझे टिकट आपको देना हे। मे तो टिकट इस वजह डूड रहा हूँ कि मुझे ये पता चल जाए कि मुझे जाना कहा हे। क्युकी मे भूल गया हूँ कि मुझे जाना कहा हे। अब आप लोग हि सोचये कि जिस आदमी iQ level इस पूरी दुनिया मे सबसे ज्यादा हे। वो इतना भुलक्ड कैसे हो सकता हे। new motivational story in hindi

शिक्षा। इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती हे कि कभी कोई भी आदमी हर चीज़ परफेक्ट नहीं हो सकता हे। तो अगर आप लोग ये सोचते हे। कि हम इसमें कमज़ोर हे। तो आप लोग यह मत सोचे कि आप इसमें कमज़ोर हे। तो उसको  करें आप जिसमें परफेक्ट हे।

 

Aur bhi aisi motivational kahaniya padne ke liye short moral story in hindi  best hindi

गाण्डीवधारी अर्जुन कि कहानी || short story in hindi motivational

short story in hindi motivational
गाण्डीव धरी अर्जुन कि कहानी। short story in hindi motivational

आज मे आपको ऐसी short story in hindi  motivational स्टोरी बताने वाला हूँ अगर आप इन motivational स्टोरी को पढ़े के तो और  इसमें मिली शिक्षा  प्राप्त करंगे तो आपको आगे बढ़ने बहुत साहस मिलेगा। आपके अंदर successful होने का जोश जागेगा। तो जरुर इस आर्टिकल ओके पूरा पढ़े।short story in hindi motivational

short story in hindi motivational
गाण्डीव धरी अर्जुन कि कहानी। short story in hindi motivational

गाण्डीवधारी अर्जुन कि कहानी। short story in hindi motivational

short motivational story in hindi for success with moral

पहले कहानी होने वाली शायद अपने यह कहानी सूनी हो गी। लेकिन यह कहानी पूरी तरह अलग होने वाली हे। और यह कहानी होने वाली हे। अर्जुन कि। अब आप लोग यह तो जानते हे। होंगे कि महाभारत का पांडव पुत्र अर्जुन को लोग धन्नजया और गांडीवधारी अर्जुन भी कहा जाता हे।short story in hindi motivational

आज मे आपको अर्जुन से जुड़ी एक short story in hindi motivational कहानी सुनाने वाला हूँ।  आप लॉगो ने यह भी सुना होगा कि अर्जुन को गाण्डीवधरी भी कहा जाता हे।short story in hindi motivational तो मे आपको आज यही बताने वाला हो कि अर्जुन को गाण्डीव धरी क्यूँ कहा जाता हे।

short story in hindi motivational
short story in hindi motivational

1.     गांडीवधारी अर्जुन कि                             कहानी।

motivational short story in hindi with moral

यह कहानी स्टार्ट होती हे जब  पांडव हस्तिनापुर मे वापस आते हे और वाहा एक सभा लगायी जाती हे जिसमें ये सुनीसचीत किया जाता हे कि राजा कौन बनेगा वाहा पर उस सभा मे  काफी बड़े बड़े लोग उपस्थित होते हे। और सभा चालू कि जाती हे। और काफी देर बाद  ये निर्णय लिया जाता हे कि राजा पंडाव् बनने चाहिए फिर वाह पर एंट्री होती दुर्योधन और मामा शकुनि कि। और शकुनि मामा बहुत हि जटिल बुद्धि के होते हे वो वाहा पर आ कर पूरी बाजी को पलट देते हे। फिर दुर्योधन को राजा बनाने का निर्णय ले लिया जाता हे। और उसका राज्य अभिषेक भी घोषित कर दिया जाता हे।short story in hindi motivational

फिर वाहा पर आते हे वासुदेव श्री कृष्ण फिर वो अपना मत रखते हे और बोलते हे। क्या दुर्योधन राजा बनने के योग्य हे जो पांडवो को हटा कर इसको राजा बनाया जा रहा हे। क्या आप पुत्र मोह मे इतने अंधे हो गए हे कि कुछ दिख हि नहीं रहा हे। फिर भी वो नहीं मनते और बोलते हे कि राजा तो अब मेरा पुत्र हि बनेगा। तो फिर कृष्ण जी बोलते हे ठीक हे ये राजा बनेगे जब कोई व्यक्ति राजा बनता हे या उसकी राजा बनाने कि घोषणा कि जाती हे तब आप उससे अपना पहला दान माँग सकते हो और वो अपना पहला दान देने से कभी मना नहीं करता हे।short motivational story in hindi pdf

short story in hindi motivational अर्जुन कि अनसुनी गाथा।

फिर वो दान देने को तैयार हो जाते हे। फिर कृषन् जी  बोलते हे कि पंडाव् को भी इस हस्तिनापुर के भांग मे से पांडव को भी एक राज्य दिया जय जहां पर वो आराम से रह सके। और शुकून से रह सके। और वाह पर काफी कहने के बाद सभी लोग मन जाते हे। और फिर दुर्योधन भी मान भी जाता हे। बोलता हे ठीक हे मैंने एक टुकड़ा देने के लिए तैयार हूँ। और बोलता हे मैंने श्री कृष्ण कि हर बात मानी हे अब नही भी मेरी बात माननी पढ़े गी। कि इस के पश्चात् वो मुझसे कभी और कुछ नहीं मागगे। तभी मे दूंगा। और पांडव भी मान जाते हे और बोलते हे ठीक हे। मे तैयार हि। फिर दुर्योधन भी बोलता हे मुझे कुछ समय दो मे राज्य का नक्शालल९# देखकर बताता हो कि कौन सा राज दान मे देंगे। फिर दुर्योधन जाता हे और पूरा नक्सा देख लेता हे लेकिन उसको कुछ समज नहीं आता कौन सा राज्य देंगे कि पांडव वाहा ज्यादा दिन तक जीवत नहीं रहे पाये। फिर वी अपने मामा शकुनि से पूछ्ता हे short story in hindi motivational

short story in hindi motivational
short story in hindi motivational

कि अब आप हि कुछ बताओ। तो फिर उनके मामा बोलते हे हा ऐसा भी राज्य हे जहां पर ना एक भी अन्य का दाना हे और ना हि पीने को पानी हे और ना हि आदमी हे। बिलकुल हि बंजर ज़मीन हे। जहां पर लाखो युद्ध लड़े गए हर जगह लांस दफ्न हे

और उस राज्य का नाम खांडवप्रसत फिर दुर्योधन जाकर पांडव को दान मे खांडवप्रसत दान मे दे देता हे। जैसे हि इस राज्य का नाम सब लोग सुनते तो बोलते हे तू पागल तो नहीं हो गए तुम जानते हो क्या बोल रहे हो । फिर भी दुर्योधन नहीं मानता हे और बोलता हे। जो दान मे दिया जा रहा हे इन्हें वो हि लेना होगा। नहीं लेना हे तो कोई बात नहीं । फिर पांडव भी मान् जाते हे और निकल पड़ते हे अपने राज्य कि और और वाहा पर जाते हे रहना चालू कर देते हे। और फिर निकल पड़ता हे

     अर्जुन का सर्पराज के साथ युद्ध

राज्य कि एस्थपना हेतो सभी लोग मिलकर एक ज़मीन ढूढते हे और वाहा पर खुदाई चालू कर देते हे। काफी खोदने के बाद वाह पर एक कंकाल निकल आता हे और फिर वो लोग वाह से निकल जाते हे। और सभी लोग वापस चलें जाते हे। तो अर्जुन निकल पड़ता हे। राज्य कि एस्थपना हे तो फिर वो काफी देर बाद एक जंगल मे पहुँच जाता वाहा अरे जाने के बाद सोचता हे कि मे अपना राज्य यही पर इस्थपित् करूंगा। और फिर वाहा पर वो पेड़ को काटना चलो कर देता हे। जैसे हि पेड़ को काटने लगता हे तो देखता हे उसे चारों तरफ सांप ने घेर लिया हे। और फिर वाह पर उन सभी सांपो का राजा आता हे और  अर्जुन से बोलता हे कि कौन हो तुम और तुमने यहाँ आने का दूशहशस् कैसे किया। तुम्हें अपने प्राणो का मोह नहीं हे। short motivational story in hindi for किड्स

चलो जाओ वरना मे तुम्हें मर दूंगा तो अर्जुन बोलता हे तुम इस जगह को छोड़ कर चलें मे इस जगह का राजा हो अगर तुम्हें जीवित रहना हे तो यहाँ से चलें जाओ तो फिर वो सर्प राज बोलता हे कौन हो तुम फिर अर्जुन बोलता हे मे पाण्डु पुत्र अर्जुन हूँ फिर् वो सर्पराज बोलता हे तो तुम अर्जुन हो मैंने तुम्हरे बारे मे बहुत सुना हे। फिर भी अगर तुम्हें जीवित रहना हे तो यहाँ से चलें जाओ तुम नहीं जानते मे किस कि सुरक्षा मे हो तो अर्जुन बोलता अब मे यहाँ का राजा हूँ और मे राज्य यही पर हि बनाऊ गा तो फिर वो सर्पराज बोलता हे मे इद्र्देव् कि सुरक्षा मे हूँ। तुम उनसे नहीं जीत सकते हो। फिर अर्जुन उस जंगल मे आग लगा देता हे। और फिर उसके बाद जो वो सर्पराज होता हे वो इद्र्देव् का अह्वान करता हे। और फिर इद्र्देव् के साथ अर्जुन का युद्ध होता हे।short motivational story for students और ये युद्ध काफी देर तक चलता रहता

short story on life in hindi
short story on life in hindi

अर्जुन के सारे बाढ़ निष्फल हो जाते कोई भी बाढ़ उस जंगल तक जा हि नहीं पाता। फिर वाहा पर श्री कृष्ण जी आ जाते हे। जैसे हि अर्जुन श्री कृष्ण को देखते हे। तो बोलते आप हि बताओ इस युद्ध को कैसे जीता जये तो फिर वो बोलते हे। तुम्हें ऐसी अग्नि चहिए जिसे कोई भी साधारण वर्षा भुजा ना सके। फिर अर्जुन बोलते हे ऐसी अग्नि तो सिर्फ अग्निदेव के पास हे। तो फिर कृष्ण जी बोलते हे।short motivational story in hindi for students

आप लॉगो को ये स्टोरी कैसी लगी जरूर मुझे बताए और इसे  पूरा पढ़ने के बाद हि जाना true motivational stories in hindi

तुम्हें अग्निदेव् को प्रसन्न करना पढ़ेगा लेकिन उनको प्रसन करने के लिए तो वर्षो तपस्या करना पड़ता हे। फिर कहीं वो प्रसन होते हे। तुमने क्या किया हे। जो वो तुम्हें वरदान देंगे। फिर अर्जुन बोलते बस आप देखिए। वो अपने चारों और आग लगा लेते हे और बोलते हे कि लोग आपको हवन कि अहुति देते हे मे अपनी अहुति देता। अग्निदेव्। अगर आप ने मुझे दरशन नहीं दिया तो मे अपना जीवन त्याग दूंगा। short story in hindi motivational

फिर वाहा पर अग्नि देव प्रकट हो जाते हे और फिर बोलते अर्जुन तुमने मुझे प्रसन्न किया बताओ तुम क्या मांगते हो मे तुम्हें एक बरदान देना चाहता हूँ। तो फिर अर्जुन बोलता हे कि आप मुझे अपनी सम्पूर्ण अग्नि सकती देदीजिये जिससे मे भीषण अग्नि लगा सकू। लेकिन मे तुम्हें ये वरदान दे तो दूँ लेकिन् वो हाथ हे हि नहीं जो मेरी सम्पूर्ण सकती का संगहान कर सके तो फिर अर्जुन बोलते कि ये रहे वो हाथ मे आपकी पूरी सकती का  संगहान कर सकता हो। फिर वो अर्जुन को गाण्डीव प्रदान करते हे। short story in hindi motivational तभी से अर्जुन को गाण्डीव धरी अर्जुन भी कहा जाता ह

    इस कहानी से हमें क्या शिक्षा मिलती हे।

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती हे कि अगर आपका संकलप दृढ हो तो आपको कोई भी नहीं हरा सकता और आपको एक ना एक दिन सफलता मिल हि जाएगी। पांडव मे सभी लो वाहा से आने बाद बैठ जाते हे और अर्जुन नहीं बैठता हे। इसी लिए उसने इतिहास लिखा इतिहास वही लोग लिखते हे जो कभी रुकते नहीं। तो इसी लिए कर्म करते रहे।short story in hindi motivational

                 जय श्री राधे कृष्णा ।

 

 

[HDquiz quiz = “46”]

moral stories in hindi || परेशानी किसी कि भी हो सहयता करो। Motivational thots

moral stories in hindi
moral stories in hindi

हेलो दोस्तों आज मैं जो कहानी आप लोगों को सुनाने वाला हूं वो होने वाली हे Motivational thots बहुत ही मजेदार होने वाली है तो जरूर से इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें और इस कहानी को पूरा पढ़ें क्योंकि इसमें आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा और यह कहानी बहुत ही मजेदार होने वाली है इस कहानी में आप लोगों को बताया जाएगा कि जब आपके पास कोई सहारा मांगे आता है moral stories in hindi  या कोई किसी बात से दुखी होता और आपके पास आता है आप उसकी सहायता नहीं करते हो तो सिर्फ उसकी सहायता नहीं कर तो आपके साथ भी बुरा होता है उसके साथ इसके ऊपर मैं आपको एक अच्छा उदाहरण देने वाला हूं और एक अच्छी कहानी सुनाने अगर आपको कुछ सीखने को मिलता है तो जरूर से नीचे कमेंट करके मुझे बताएं कि आपको कैसी लगी Motivational thots

Moral stories in hindi ये कहानी बहुत मजेदार होने वाली हे। और आपको बीच मे इमेज भी दी जाएगी। Motivational thots कि।

Moral story im hindi

यह कहानी स्टार्ट होती है गांव से एक गांव होता है और वहां पर एक घर होता है घर में एक व्यापारी रहता होता है वह व्यापारी ने अपने घर में चार जानवर पाल रखे होते हैं उनमें से एक चूहा होता है मुर्गा और दूसरा होता है सांप तीसरा होता है चूहा और चौथा होता है बकरा उसने अपने घर में चार जानवर पाले होते हैं और वह व्यापारी अपने उन जानवरों की अच्छे से देख रेख करता है उनको अच्छे से खिलाता पिलाता है अब उनके घर में जो चूहा होता है वह उन्हें परेशान करने लगता है उनके कपड़े काटने लगता है और भी नई नई चीजें करने लगता है तो वह उस से परेशान होकर एक दिन उसके लिए पिंजरा लगा देते हैं उसे पकड़ने के लिए अब वह चूहा जब यह जानता है कि इस घर में मुझे पकड़ने के लिए पिंजरा लगा दिया गया है तो वह सब के पास जाता है पहले सांप के पास जाता कहता हे मैं बहुत परेशानी में हूं मेरी सहायता करो इन्होंने तो मुझे पकड़ने के लिए पिंजरा लगा दिया है moral stories in hindi

moral stories in hindi
                 moral stories in hindi

 

  क्या तुम सच में विश्वास करते
     हो कि चाँद वहाँ है 
   Motivational thots 
 जहां कोई नहीं पहुँच  सकता हे।
 moral stories in hindi 

तो वह जो साफ होता है वह बोलता है मैं तुम्हारी कोई सहायता नहीं कर सकता इसमें फिर वहां से दुखी होकर चला जाता है फिर वह मुर्गे के पास जाता है उससे बोलता है भाई तुम मेरी सहायता करो मैं बहुत परेशानी में हूं इन घर वालों ने तो मुझे पकड़ने के लिए पिंजरा लगा दिया है अब यह मुझे पकड़कर मार देंगे या कहीं फेक देंगे। तुम मेरी सहायता कर सकते हो मुर्गा भी बोलता है मैं तुम्हारी कोई सहायता नहीं कर सकता मुझे क्या हुआ है जो होगा तुम्हें होगा फिर वह  नाराज होकर वहां से चला जाता है aur bhi moral stories in hindi

 

moral stories in hindi

बहुत छोटा सा अक्षर हे मेहनत फिर भी लोग

इसे इतना बड़ा बना देते हे और डकार मेहनत से भागने लगते

हे और किस्मत पर भरोसा करते हे।

Succes ka mantra for Hardwork  

      👍 moral stories in hindi 🇮🇳

 

फिर वह जो चूहा होता है वह जाता है बकरे के पास कहता है भाई मेरी तुम कोई सहायता करो बाकी सब ने तो मना कर दिया मेरी सहायता करने से अगर तुम कुछ कर सकते हो तो करो क्योंकि इन घर वालों ने तो मुझे पकड़ने के लिए पिंजरा लगा दिया है अब यह मुझे मार देंगे या कहीं प फेक आएंगे तुम मेरी कुछ सहायता कर सकते हो तो करो मेरी समय जान बड़ी दुविधा में फंसी हुई है अब बकरा भी कहता है मुझे क्या पड़ी है मैं तो सुरक्षित हूं जो होना है तुम्हें होना है जाओ तुम स्वम्  अपनी रक्षा करो मैं कुछ नहीं कर सकता वहां से भी वह नाराज हो कर चला जाता है अब एक रात वह लोग पिंजरा लगा कर सो जाते हैं क्या आपको पसंद आई हे ये moral stories in hindi

अब वह जो व्यापारी होता है वह अपनी पत्नी से बोलता है कि कल मैंने तुम्हें जो पिंजरा ला कर दिया था आज रात सोते वकत लगा देना क्योंकि वह चूहा बहुत ज्यादा परेशान कर रहा है उसे पकड़ना भी है तो उसकी पत्नी लगाकर पिंजरे को लगा कर सो जाती है और थोड़ी ही रात होती है कि वहां पर खट से आवाज अति हे। जैसे  पिंजरे में कुछ फस गया हो सब लोग तुरंत उठकर देखते हे। और उस पिंजरे में कोई और नहीं सांप आकर फस जाता है सांप कि जैसे हि पूंछ दबती है तो वह पिंजर मे। सांप जो होता है वह डस लेता है  उसकी बीवी के पैर में डस लेता है

जब उसकी बीवी के पैर में डस लेता है तो वह बीमार हो जाती है फिर उसको जल्दी-जल्दी डॉक्टर के पास ले जाते हैं तो डॉक्टर बताता है कि इन्हें सांप ने डस लिया है मैंने इनका इलाज कर दिया हे। यह अभी खतरे से फिलहाल बाहर हैं और इन्हें अभी प्रोटीन की जरूरत है अगर अभी ने अच्छा खानपान नहीं दिया गया तो यह मर भी सकती हैं अब वह सोचता ही ने क्या दिया जाए तो डॉक्टर बताता हे इन्हें। मुर्गा दीजिए अब वह मुर्गा सुनकर कहता है मेरे घर में तो मैंने एक मुर्गा भी पाल रखा चलो क्यों ना उसे हि ले आता हो तो जाता है मुर्गे को काटते और बनाता है मुर्गे को बनाता है फिर अपनी बीवी को खिलाता है।

 

और फिर जब उसकी बीवी ठीक होकर वापस घर आती है तब सभी लोग उसको देखने आते हैं और उस व्यापारी के जो दोस्त यार होते वह उस से बोलते हैं कि अब तो तुम्हारी बीवी मौत के मुंह से बाहर निकल कर आई है कुछ पार्टी नहीं कर आओगे कुछ खिलाओगे खिलाओगे नहीं क्या तो वह बोलता है व्यापारी बोलता है बताओ क्या खाना है जो तुम कहोगे मैं वह खिलाऊंगा तो वह लोग बोलते हैं कुछ तो भाई पार्टी होनी चाहिए कुछ ऐसा खिलाओ कि मजा आ जाए वह बोलता बकरा खाओगे अब क्या बकरा भी होता है तो वह लोग बकरा भी काटकर बना देते हैं अब जितने भी जानवर होते हैं वह सब चले गए होते क्योंकि जो सांप होता है जो उसकी बीवी के काटता है वह तो उसे मार मार के मार देता है और बकरे को मुर्गे को काटकर बना देते हे और चूहा बच कर निकल जाता है और बाकी यह वही लोग थे जिन्होंने मुसीबत आने पर साथ नहीं दिया था साथ छोड़ दिया था उसका अगर उस समय इन लोगों ने उस चूहे का साथ दिया होता तो आज यह भी बचे होते हैं और चूहा भी शांति से रह रहा होता तो इसी वजह अगर आपके पास कोई भी अपनी मुसीबत में सहारा मांगने आए तो बिल्कुल उसे दुत्कार के बघाईये नहीं उसकी मदत किजिये।  सहारा दीजिएगा और जितनी हो सके उतनी उसकी मदद कीजिएगा

सहारा मांगने वाला मत बनाए भगवान ने आपको सहरा देने वाला बनाया हे Motivational thots तो सहारा देने के लिए हाथ बड़े लेने कि लिए नहीं moral stories in hindi

 

क्योंकि जीवन में मदद ही एक ऐसी चीज है जिसे देने से कोई आदमी घट या बढ़  नहीं जाता है अगर आप किसी को मदद करेंगे तो उसकी सहायता हो सकती है यानी आप की भी सहायता हो सकती है अगर आप उसका अच्छा करेंगे तो ऊपर वाला आपका अच्छा करेगा तो इस वजह मदद करने से कभी भी पीछे मत हटिए जितनी हो सके सबकी मदद कीजिए यह नहीं कह रहा कि आप पैसे से कीजिए धन से कीजिए नहीं बिल्कुल जितनी हो सके मदद कीजिए जरूरी नहीं है कि पैसे से ही कीजिए मदद कैसे भी की जा सकती है किसी को रास्ता दिखा दीजिए आपको रास्ता पूछने आप गलत जगह भेजे तो यह नहीं होता जितनी हो सके मदद कीजिए! Moral stories in hindi 

 

ग्राहक कि जरूरत को समझो उस पर अपनी जरूरत मत डालो।short motivational stories in hindi with moral

 

15 हज़ार कि हजामत !Short Motivational story!

 

राजा और चोर कि कहानी।Motivational kahani hindi ||

|किसी को भी अपने से कम मत समझना।acchi acchi kahaniya!

Student motivational story|| कि जीवन मे गुरु कि महिमा बहुत बड़ी हे साहब।|

Best 2 moral stories in hindi || अकबर और बीरबल || वफादार बन्दर। कि कहानी।

 

 

 

 

Best 2 moral stories in hindi || अकबर और बीरबल || वफादार बन्दर। कि कहानी।

Best 2 moral stories in hindi || अकबर और बीरबल || वफादार बन्दर। कि कहानी।

आज मैं आप लोगों को जो कहानी बताने वाला हूं वह और भी ज्यादा मजेदार होने वाले क्योंकि moral stories in hindi इस कहानी में आपको बहुत कुछ सीखने को मिलेगा इस कहानी को पूरा लास्ट तक पढ़ने और लास्ट में एक कमेंट जरूर कर दे कि आपको कौन सा पाठ अच्छा लगा ये moral stories in hindi

moral stories in hindi
moral stories in hindi

Top 2 best moral stories in hindi हिंदी मे 2 बेस्ट मोरल कहानियाँ। जरूर पड़े।

2,story moral stories in hindi एक परेशान आदमी और वफादार बन्दर कि कहानी।

एक आदमी होता है वह हमेशा परेशान रहता है और परेशान होने। के साथ-साथ वे अपने अगल-बगल के और अपने दोस्त यारों के आदमियों से ऊब चुका होता है उनसे मिलने का उसका मन ही नहीं करता है वह सोचता है मैं ऐसा कौन सा वफादार जानवर या इंसान रखो जिस पर मैं भरोसा कर सकूं अब वह एक बार घूमने जाता है वहां पर उसे एक बंदर दिखता है moral stories in हिंदी  अब वह बंदर को देखकर सोचता है इसके पास तो बुद्धि नहीं होती अगर मैं इसे अपना वफादार  रख लूंगा और मैं इसे जैसा सिखाऊंगा यह वैसा ही करेगा उस बंदर को ले आता है अपने घर और बन्दर को अपने घर रखने लगता है खाना खिलाता है पालता पूछता हे।moral stories in hindi

वह बंदर को ले आता है और उसे अच्छे से पालता पूछता है सिखाता है कई दिन लग जाते या कई महीने लग जाए तो उसको सिखाने में खिलाने में जब मैं सब कुछ सीख जाता है तो उसके उसके साथ घुल मिल जाता है उसके साथ खेलता है बैठता है सोता है वह भी यह देखकर बहुत खुश था कि मेरे साथ बंदर घुल मिल गया और यह अभी तक कोई भी बेवकूफी नहीं किया इसलिए अब एक बार वह सो रहा होता है hindi moral fo story अब अंदर उसकी सर पर बैठा था मतलब उसके बेड पर बैठा होता है अब वहां पर धीरे-धीरे एक मक्खी आ जाती है उसके आदमी के अगल-बगल बनाने लगती है अगल-बगल देखकर यह बहुत ज्यादा गुस्से में आ जाता है यह मक्खी मेरे मालिक को कहीं नींद से जगा ना दे यह देखकर बंदर गुस्से मे उस मक्की को मरने लगता हे लेकिन मक्की को भागने मे सफल नहीं होता हे।  भगाने की।moral stories in hindi

बंदर मक्खी को देखकर बहुत ज्यादा गुस्से में आ जाता है और वह मक्खी को मारने लगता है लेकिन मक्खी तो अगल-बगल नाच ही रही थी वह उसे मार नहीं पाता और जब बंदर काफी देर कोशिश करता है उसके बाद भी वह मक्खी को मारने में असफल रहता है और वह इससे और भी ज्यादा गुस्से में आ जाता था अब मक्खी भी बनाते बनाते उसकी जाकर गर्दन पर बैठ जाती वह जो आदमी होता उसकी गर्दन पर बैठ जाती हे। moral stories in hindi

अब बंदर सोचता है कि मक्खी अब इसके गर्दन पर बैठी गई है तो अब मैं से आसानी से मार सकता हूं लेकिन वह सोचता है कि अगर मैं इसे हाथ से मारूंगा तो मालिक उठ जाएंगे उनकी नींद टूट जाएगी तो बगल में उसके हंसीआ रखी होती है अब वो बन्दर हँसये को उठाता है और मक्खी को गर्दन पर मार देता है अब आप ही सोच सकता उसके बाद क्या हुआ होगा मक्खी के साथ-साथ उस आदमी का भी राम-राम सत्य  हो जाता है moral stories in hindi

इस कहानी से शिक्षा हमें इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि किसी से भी इतना लगाओ ना करें क्योंकि लगाओ आपका अगर ज्यादा हो जाएगा या कम हो जाएगा तो अगर कम होगा तो सामने वाले को नुकसान पहुंचेगा अगर ज्यादा होगा तो आपको तो इस बजे लगाओ किसी से ज्यादा मत रखिए दूरी बनाकर ही रखे हमेशा यही आपके लिए सफलता की चाबी है।

2nd moral stories in hindi ( akbar aur birbal ka rochak kissa)

 

 MORAL STORIES IN HINDI
          MORAL STORIES IN HINDI

यह कहानी होने वाली अकबर और बीरबल की एक बार अकबर के दरबार में सभा लगी होती है तो अकबर बीरबल से बोलते हैं राज्य में चोरी बहुत हो रही है रोज नए नए चोरी के मामले सामने आ रहे हैं आप बताओ बीरबल क्या करें तो बीरबल सोचते हमें आप कल तक का समय दीजिए अब कल तक का समय तो ले लेते अगले दिन फिर से अगले दिन पूरे गांव वाले सभा में आ जाते कि अभी तो एक ही 2 चोरियां हुई थी अभी तो 10 से 12 चोरियां हो गई है अब आप ही बताइए क्या करें तो तो अकबर बोलते हैं कि आप बताओ बीरबल क्या करें मैंने तुमसे कल ही कहा था कि इन चोरियों का कुछ तो समाधान निकालो वरना ऐसे तो राज्य में धन ही नहीं बचेगा क्योंकि सबसे ज्यादा धन कि ही चोरी हो रही है और अनाज की अब बताओ क्या करें तो बीरबल बोलते हैं आप मुझे कल तक का समय दीजिए कल तक मैं आपको चोर आपके सामने लाकर खड़ा कर दूंगा बोलते ठीक है अकबर बोलते ठीक है अगर कल तुमने चोर लाकर नहीं दिया तो

अब अगले दिन बीरबल एक राज्य के मंत्री को भेजते हैं और उससे कहते हैं जाकर पूरे राज्य में कह दो कि अभी एक सभा लगने वाली है और वहां पर सभी लोग हाजिर होंगे और उसके बाहर एक छड़ी रखी हुई है उस छड़ी को छू कर आना है और वह छड़ी जादुई है जो भी चोर उसको छू लेगा और  जिसने भी चोरी की होगी उसको वह छड़ी अपने आप मारने लगेगी अब यह बात सभी राज्य वाले सुनकर डर जाते हैं कि अगर मैंने चोरी नहीं की है मुझे मारने लगी तो मैं फालतू का ही फंस जाऊंगा सभी लोग जाते हैं वहां पर राज्य में सभी लोग जाते हैं और एक-एक करके बीरबल लाइन लगवा देता कहता है सब एक-एक करके सभी लो इस छाडी को छूकर अंदर आएंगे आप जो चोर नहीं होते हैं वह बिना भय के छड़ी को छू छू कर चले जाते अंदर! moral stories in hindi

और वहां पर सभी लोग लाइन से छू छू कर चले जाते और अंदर जाकर सभी लोग लाइन से आ जाते हैं अब सब लोग सोचते हैं यहां तो किसी को भी उस छढी ने मारा हि नहीं

यहां तो किसी को भी उस छढी ने मारा ही नहीं यानी यहां पर कोई भी चोर नहीं है अब बीरबल बोलता है सभी लोग लाइन से खड़े हो जाओ मैं सभी लोगों के पास आऊंगा और फिर चोर का पता लगा लूंगा आप सभी लोग डर जाते हैं कि वह किसी के ऊपर भी उंगली रख देगा तो समझ लो सजा हो जाएगी अकबर मृत्युदंड दे देंगे अब वह सभी लोगों के पास जाता है एक-एक करके जो चोर नहीं होते उनको डर नहीं होता तो फिर वो जाता सभी को सूंघता है और एक आदमी को उसने पकड़ लेता कहता यह चोर है। अब आप यह सोच रहे होंगे कि किसी को भी उस छड़ी ने मारा तो नहीं फिर इसने चोर कैसे पता कर लिया अब मैं आपको इसमें कुछ बताता हूं उस छड़ी में लगा होता है इत्र और जो जो उस छढी को छू कर आता है उसमें इत्र की खुशबू आ जाती है उसके हाथ से इत्र कि खुश्बू आने लगती हे। खुशबू आई लगती और बीरबल सभी के जाकर हाथ को सूंघता  है और जो चोर होता है वह उस छड़ी को छूता ही नहीं तो उसके हाथ से वह खुशबू भी नहीं आती है। और बीरबल इससे चोर का पता लगा लेता हे।moral stories in hindi

 

इस moral stories in हिंदी से हमें क्या शिक्षा मिलती हे।

कि हम किसी भी परेशानी या समस्या को खुद से इतनी बड़ी बना लेते हे। जबकि वी असल मे  इतनी बड़ी नहीं होती। बस थोड़ा सा शान्त होकर और दिमाग से सोचये अब बड़ी बड़ी समस्या का हल निकल सकते हे।

Student motivational story|| कि जीवन मे गुरु कि महिमा बहुत बड़ी हे साहब।|

Student motivational story|| कि जीवन मे गुरु कि महिमा बहुत बड़ी हे साहब।|
Student motivational story

Today fresh motivational story

आज मैं जो कहानी आप लोगों को सुनाने वाला हूं यह कहानी बहुत ही मजेदार होने वाली है क्योंकि इसमें आपको बताया जाएगा गुरु की महिमा यानी जीवन में एक आपका ek guru होना जरूरी होता है जिसको आप ब्लाइंड्ली फॉलो कर सकें क्योंकि गुरु की महिमा बड़ी है साहब गुरु से बढ़कर इस दुनिया में कोई भी नहीं है गुरु बड़े बड़े लोगों को लेना पड़ा भगवान तक के गुरु थे कृष्ण भगवान के गुरु थे राम जी के गुरु थे बड़े-बड़े लोगों के गुरु हैं तो इसी वजह गुरु की महिमा बहुत बड़ी है और आज मैं आपको इसी के ऊपर एक कहानी सुनाने वाला हूं कि देखिए गुरु की महिमा कैसी होती है गुरु चाहे जैसा भी हो आपके हमेशा हित में ही काम करता है चलिए इस कहानी को स्टार्ट करते हैं  Today fresh motivational story

Student motivational story

स्टोरी स्टार्ट होती है पुराने के गांव से जहां पर एक औरत रहती होती है और वह औरत एक साध्वी होती मतलब साधना  में लीन रहती है और वह नारायण की पूजा करती रहती है और नारायण को बहुत मानती है उनकी पूजा में लीन रहती है और वहां पर एक पेड़ होता है और उसके नीचे चबूतरा होता है वह रोज वहां पर जाती और नारायण की पूजा करती वहां पर बैठती साधना करती रोज का उसका नियम था अब क्या होता है रोज जाती है तो जब वहां पर जाकर अपने घर वापस आती है तो वहां पर एक चोर आ जाता है उसको देखता है वह घर पर है तो फिर वह साधु का रूप लेकर चला आता हे वहां पर तो उस नारी से बोलता है मैं अपने शिष्य को ढूंढ रहा हूं मुझे किसी को शिष्य बनाना है क्योंकि मैंने अपनी शिक्षा पूरी कर ली है अब मुझे किसी शिष्य को शिक्षा देनी है उसे भी अपने साथ रखना है तो वह नारी बोलती है कि ठीक है मैं आपकी  Student motivational story||

Today fresh motivational story

Guru ki mahami bhoud badi he sahab jivan me ek guru hona jaroori he.

शिष्य बनने के लिए तैयार हूं क्या आप मुझे शिक्षा देना पसंद करेंगे मैं आपसे शिक्षा लेने के लिए तैयार हूं तो वह वह जो चोर होता है जो साधु के वेश में आता है तो वह बोलता ठीक है मैं तुम्हें अपना शिष्य बनाने के लिए तैयार हूं लेकिन तुम्हें एक काम करना पड़ेगा कल तुम्हें जिस मंदिर जिस पेड़ के नीचे तुम रोज पूजा करने जाती हो उस जगह तुम्हें अपना पूरा गहना सब कुछ लेकर आना होगा क्योंकि तुम्हें ऐसा करना  होगा और मैं तुम्हें तभी शिक्षा देना प्रारंभ कर लूंगा वह जो नारी होती वह बोलती है ठीक है मैं कल सुबह वहां पहुंच जाऊंगी वह बोलता है ठीक है सब कुछ लेकर आना कुछ भी यहां मत छोड़ना मैं वहां पहुंच जाऊंगी फिर सब लोग वहां से चले जाते हो अपनी जगह। Today fresh motivational story

  •                          🙏 ‘सुविचार”🙏

जीवन मे एक गुरु जरुर बनाए क्योकि गुरु का महत्व जीवन मे बहुत बड़ा हे। बड़े बड़े लॉगो मे गुरु बनाए हे। यहाँ तक भगवान श्री कृष्ण के गुरु थे। भगवान श्री राम के गुरु थे। तो गुरु को जीवन मे बहुत बड़ा रोल हे।

अगले दिन सुबह वह नारी अपना सारा सामान लेकर उस जगह पहुंच जाती है फिर वहां पर वह चोर भी आता है वही गुरु के भेष में वह बोलता है ले आई तुम अपना सारा सामान हां वह कहती है ठीक है मैं अपना सारा सामान लिया है जैसा जैसा आपने कहा था मैंने वैसा वैसा किया है फिर वह जो चोर होता है वह बोलता है लाओ मुझे यह सब दे दो मैं इसे कहीं जाकर तुम्हारे अच्छे सुरक्षित जगह पर रख देता हूं और तुम जब कहोगी मैं तुम्हें लाकर दे दूंगा तो नारी बोलती ठीक है मैंने आपको अपना गुरु माना यह सब लीजिए आप ले जाइए उसको सुरक्षित जगह पर रख दीजिए अब नारी को क्या मालूम कि वह चोर रहता है अब वह जाएगा तो दोबारा वापस नहीं आएगा नारी को सब दे देती है  और वह जो चोर होता है वह बोलता है लेकिन मैं ऐसे नहीं जाऊंगा क्योंकि मुझे भरोसा नहीं है तुम यहां रुकोगी भी कि नहीं और यहां से कहीं चली गई तो मैं तुम्हें इसी पर से बांध के जा रहा हूं और मैं जब तक खोलो ना तब तक तुम्हें इसी पेड़ से बने रहना और किसी से भी खुलवाना नहीं है वह बोलती है ठीक है आप मेरे गुरु है आप जैसा कहेंगे मैं वैसा ही करूंगी आप मुझे बांध दीजिए वह उसे बांधकर वहां से चला जाता है अब वह तो चोर दोबारा वापस नहीं आने वाला था उसे तो बांध देता हूं उसका सारा गहना जेवर जितना भी होता सब लेकर चला जाता है अब वह इसी आसरे में रहती है कब आएगा एक दिन बीत जाता है और वह साधारण लड़की लड़की नहीं होती हे एक राजा की लड़की होती है उसके पिता राजा रहते हैं वह रोज देखने आते अपनी लड़की से मिलने आते तो अगले दिन भी आते हैं और देखते हैं वह अपने घर पर भी नहीं उस पेड़ के नीचे जाते जहां रोज साधना करने जाती होती है Student motivational story

, और देखते हैं वह नारी मतलब उसकी बेटी वहां पर भी नहीं वह बड़ा चिंतित हो जाते कि कहां गई और जस्ट उसके बगल में देखते हैं वह उसी पेड़ में बंधी हुई है तो वह उसे बोलते बेटी तुम्हें यहां कौन बांध गया मुझे बताओ मैं तुम्हें आओ खोल दूं तो वह बोलती नहीं मुझे मेरे गुरु बांध गए हैं  गुरु ने कहा है कि वहीं आकर मुझे खोलेंगे और मैं अब किसी से भी नहीं खुलवागे तो वह बोलता है एक तो तुम्हारा वह सारा जेवरात गएना पैसा सब लेकर चला गया है वह चोर अब वापस नहीं आने वाला लेकिन वह नारी मानती नहीं है कि मैं अपने  गुरु से  खुलआऊंगी मुझे बांध कर गय हे। और मुझसे कह कर गए कि मैं जब आऊंगा तभी तुम्हें खोलूंगा तो आप जाइए मैं आपसे नहीं खुलआऊंगी तो उनके पिताजी बहुत कहते हैं Student motivational story

और फिर उनके पिताजी वहां से चले जाते हैं अब वह 1 दिन बँधी रहती है अब जब उस नारायण की पूजा करती होती है तो नारायण भी उनके भरोसे बैठे होते कि अब मेरा भक्त मेरी मुझे  प्रसाद चढ़ा आएगी तो मैं उसे ग्रहण करूंगा 1 दिन बीत जाता है 2 दिन बीत जाता है वह पेड़ के नीचे आती ही नहीं है और ना वहां कोई प्रसाद चढ़ती है तो नारायण भी देखते रहते हैं कि मैं यहां अभी तक मेरी भक्त आई हि नहीं। मुझे पता चला है मैं भूखा बैठा हूं यह है फिर वह नारायण नारद मुनि को बुलाते उन्हें भेजते हैं देखो जाकर मेरी भक्त कहां है मुझे भोजन भी नहीं चढ़ाया मैं यहां भूखा बैठा हूं।Student motivational story

फिर भी जाते हैं ढूंढते हैं  तो देखते हे कि वो एक पेड़ से बँधी हे। तो उससे बोलते हे लाओ मे तुम्हें खोल दो। तो वह बोलती हे  कि मैं सिर्फ अपने गुरु से ही खुलवागी आप मुझे नहीं सकते हे।आप मुझे खोलने आए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद मुझे आपके दर्शन हो गए मैं इतने सालों से तपस्या कर रही हूं फिर भी मुझे आपके दर्शन नहीं हुए अब नारद मुनि बोलते हैं अरे मैं तो मैं तो खोल सकता हूं नहीं लेकिन आप भगवान होंगे लेकिन आप मेरे को खोल नहीं सकते खोलेगे तो सिर्फ मुझे मेरे गुरु ही वह कह कर गए हैं तुम किसी से भी नहीं खोलवागी मैं आऊंगा तभी खोलूंगा। तो नारद मुनि जी काफी कहते हे वह भी थक जाते हैं फिर वह नारायण के पास जाते नारायण से बोलते हैं प्रभु वह तो खोलने को तैयार ही नहीं है मैं तो बोला कि मैं खोल दो लेकिन नहीं वह तो  अपने गुरु से ही खोलवागी। और वह कोई चोर था उसे चोरी करके चला गया अब वै वापस भी नहीं आएगा कब तक ऐसे ही बँधी रहेगी। अब  नारायण जाते हैं Student motivational story

स्वयं नारायण जाते हैं नारी देखते हि बोलती हे। अरे मैं धन्य हो गई जो आपने मुझे दर्शन दिया लेकिन मैं खुलवांगी तो सिर्फ अपने गुरु से ही वह बोलता है नारायण बोलते हैं कि वह गुरु नहीं थे वह कोई चोर था तुम्हारा सारा सामान चोरी करके चला गया अब क्या फायदा लो मैं तुम्हें खोलदूं वो कहती नहीं आप भगवान हे। लेकिन मैं खुल आऊंगी तो सिर्फ अपने गुरु से ही। तो फिर बोलते हे। वो गुरु नहीं था चोर था तो नारी बोलती  है  देखी गुरु की महिमा गोविंद दियो मिलाय हम इतने साल से तपस्या कर रहे हैं आपकी अभी तक मुझे दर्शन नहीं हुए लेकिन गुरु क्या आए भगवान से स्वयं एक दिन में उन्होंने मिला दिया तो गुरु की महिमा जीवन में बहुत बड़े गुरु चोर हो चाहे जो हो अगर आपने उसको गुरु मान लिया है तो आपका हित् हि होगा अहित नहीं तो जीवन में जिसको आप अपना गुरु माने उसको ब्लाइंड्ली फॉलो कर।Student motivational story for life changing

तो इस कहानी से आपको क्या शिक्षा मिली। गुरु की महिमा बहुत बड़ी है बड़े-बड़े लोगों ने गुरु लिया है जहां तक की भगवानों के भी गुरु थे श्री कृष्ण जय श्री राम की भी गुरु थे तो गुरु बनाना  बुरी बात नहीं है जीवन में गुरु होना चाहिए।

जिसको आप जीवन भार फॉलो कर सके। Student motivational story

Best Motivational story | जो होता हे अच्छे के लिए हि होता हे । मोटिवेशन कहानी।

Best Motivational story | जो होता हे अच्छे के लिए हि होता हे । मोटिवेशन कहानी।

Best Motivational story

 

 

कहानी का सारांश:- राजा और उसका मित्र।

कहानी का शीर्षक:- जो होता हे अच्छे के लिए हि होता हे।

कहानी से शिक्षा। वो आपको नीचे हि मिलेगि। कहानी के एंड मे।

और दोस्तों आप लोगों का स्वागत है आपके अपने इस मोटिवेशनल कहानी ब्लॉग  में और आप लोग  जानते ही मैं आप लोगों को रोज नई नई कहानियां  मोटिवेशनल से भरी हुई कहानियां सुनाता हूं और आज मैं आप लोगों को ऐसी ही एक कहानी सुनाने वाला हूं आप लोगों ने अपने बड़े बोडो या किसी ना किसी से कहावत जरूर सुनी होगी जो होता है अच्छे के लिए ही होता तो मैं आज आप लोगों को इसे साबित करने के लिए एक कहानी सुनाने वाला हूं जो सुनकर आपको बहुत ही मजा आने वाला और आपको बहुत कुछ सीखने को भी मिलेगा जरूर इसको पूरा पढ़ें।

 

[Best Motivational story : यह कहानी है एक राजा और उसके मित्र की आज से करीब करीब 500 साल पहले एक राज्य हुआ करता था वहां पर एक राजा रहता था और उसका एक मित्र था और उसका जो मित्र था वह हर बात पर  कहता था जो होता है अच्छे के लिए ही होता है और इस बात से राजा बहू क्रोधित होते थे।

[Best Motivational story : एक बार राजा अपनी तलवार साफ कर रहा होता है तो तलवार उसके हाथ से छूटकर उसके पैर के अंगूठे पर गिर जाती है और जब पैर के अंगूठे पर भी तलवार की होती है तो उसका पैर का अंगूठा कट जाता है और वहां पर उसका मित्र भी होता है तो वह कसकस कर हंसने लगता है और बोलता है जो हुआ है अच्छे के लिए हुआ जो हुआ अच्छे के लिए हुआ एक तो वहां पर राजा का अंगूठा कट गया था और जब यह चिल्लाता है जो हुआ अच्छे के लिए हो तो राजा  इससे बहुत ज्यादा क्रोधित हो जाता है और जैसे ही वह क्रोधित होता है तो उससे बोलता है कि एक तो मेरा अंगूठा कट गया और ऊपर से कुछ कह रहै हो  जो हुआ अच्छे के लिए हुआ जो हुआ अच्छा हुआ जो हुआ यह  बात राजा को बिल्कुल भी पसंद नहीं आता है

[Best Motivational story : राजा बोलता है डाल दो उसको कारागार में अब इसको बाहर मत निकालना जैसे ही उसको कारागार में डाला जाता है तो जब को कारागार का गेट बंद किया जाता अंदर डालकर तक वह चिल्लाता है जो हुआ अच्छा हुआ जो हुआ अच्छा हुआ वहां पर राजा भी उपस्थित होता है राजा बोलता है यह बताओ मेरे को चला अंगुठ। गया तुम्हारै लिए  अच्छी बात है तुम्हारे लिए लेकिन तुम्हें तो मैंने कारागार मे डाल दिया तुम्हारी तो गलती  कुछ भी नहीं है तुम्हारे लिए अच्छा आपको पता चलेगा।

आज मे आप लोगों को मोटीवेट  करने के लिए ये Best Motivational story कहानी सुना रहा हूँ।

 

[Best Motivational story राजा बोलता है मैंने तो तुम्हें कारागार में डाल दिया अब तुम्हारे लिए क्या अच्छा हुआ वह बोलता है आपको आगे पता चलेगा जब राजा उसे कारागार में बंद कर रहा होता है तो वह चिल्लाता है जो हुआ अच्छे के लिए हुआ और राजा यह सुनकर बहुत ज्यादा क्रोधित हो जाता है और वह जाने लगता है और जाते वक्त यह बोलता है कि कितना बड़ा पागल है इसको तो मैंने कारागार में डाल दिया कि कोई गलती भी नहीं थी फिर भी यह कारागार में और वहां कारागार में भी जाने के बाद जो हुआ अच्छे के लिए वो चिल्लाई रहा है अब राजा तो क्रोधित हो कर चला जाता है लेकिन उसकी प्रजा बहुत ज्यादा संकट में होती है तो वह भ्रमण करने में निकलता है पुराने समय के जो राजा होते थे वह अपने राज्य को देख रेख के लिए कभी ना कभी भ्रमण पर जाते थे और वह सोचता है कि चलो भ्रमण के लिए चलते अब जब भ्रमण के लिए जाने लगता है तो इस जंगल से रास्ता बीच जंगल से उसको जाना था और जिस जंगल से जाना था उस जंगल में आदिवासी रहते थे और जब वह जा ही रहा होता है तो उसको आदिवासी पकड़ लेते हैं और उसकी पूरी सेना को मार देते हैं उसको!

 

[Best Motivational story  उसकी सेना को मारने के बाद उसे कैद कर लेते हैं और जब उसे कैद करते तो बोलते  हो ला लाला हो अब बली देंगे की बलि देंगे माता खुश होगि मैं बहुत सारा अन्य देंगी हु ला ला ला हूं उसकी बलि देंगे यह सुनकर बहुत ज्यादा डर जाता है बोलता है आपको मैं गया अब लग रहा मेरी मृत्यु निश्चित है उसको पकड़ कर पूरा कपड़े कपड़े उतार कर उसको पूरा नहीं ला देते हो ना उसकी गर्दन्  पर  माला बनके दल्ते हे हैं और उस पर फूल और डालते हैं यह देख कर राजस और ज्यादा डर जाता है उसे हु ला ला ला हू अब इसकी बली देंगे देंगे माता खुश होंगी और जैसे ही व को नहलाने लगते हैं जब उसको साफ करते हैं तो क्या होता है जैसे उसकी नजर जाती है कटे हो अंगूठे से जैसे ही वो कट अंगूठा देखता है तो आदिवासी चिल्लाने लगते अपनी माता को अखंड वाली नहीं दे सकते हैं खंडित बली नहीं दे सकते हैं दुखी हो जाएंगी इसको छोड़ दो जाने दो एक ही नहीं देंगे हम नहीं देंगे अब तो खुश हो जाता है कि!

कैसी लगी मेरी ये Best Motivational story कहानी आप लॉगो को

 

[Best Motivational story राजा जब वहां से छूटने के बाद जा ही रहा होता है तो सोचता है अगर मेरा अंगूठा ना कटा होता तो आज मेरी गर्दन कट जाती और फिर जब वहां अपने राज्य पहुंचता है तो अपने मित्र के पास जाता है और मित्र से पूछता है चलो मेरी तो आज जान बच गई इस कटे हुए अंगूठे की वजह से लेकिन तुम्हारे साथ क्या अच्छा हुआ तुम्हें तो मैंने कहा कारागार् मे डाल दिया तुम्हारी कोई गलती भी नहीं थी और तुम्हारे साथ क्या अच्छा हुआ तो वह बोलता है अच्छा यह बताइए राजा साहब मैं तो आपका परम मित्र हूं और मैं जहां जाते हैं आपके साथ ही रहता हूं आप यहां पर गए आप यहां कैद हुए आपकी मृत्यु पर आ गई थी बात अगर आप का अंगूठा ना कटा  होता तो आप बचते ना आपको निपटा देता लेकिन यह बताइए कि मैं तो आपके साथ जाता तो मुझे भी तो वो लोग मुझे भी  पकड़ते और जब पकड़ते तो आपका तो अंगूठा कटा था आप तो बच गए लेकिन मैं कैसे बचता नहीं तो पूरा ठीक था मेरा तो काम तमाम कर देते तो हुआ ना जो हुआ अच्छा हुआ मेरे लिए तो अच्छा हि हुआ।

 

 

 

[Best Motivational story :  जो होता है अच्छे के लिए ही होता है यह बात कोई  mith नहीं है यह बात सत्य है जो होता है अच्छे के लिए होता है तो इसीलिए किसी भी सिचुएशन में या किसी भी परेशानी में अपने आप को अकेला मत समझो भगवान आपके साथ है और जो होता है अच्छे के लिए ही होता है इसीलिए पूर्वज लोग कहते थे कि जो होता है अच्छे के लिए ही होता है

 

Best Motivational story : राजा कहता है हां मित्र तुम्हारी बात सत्य है जो होता है अच्छे के लिए ही होता मैं तो आज तक तुम्हारी बात को समझ ही नहीं पाया मुझे माफ कर दो तब मैं उसे कारागार से बाहर निकालता है और उससे कहता है यह बताओ तुम्हें यह कैसे पता था कि मेरा अंगुठा कटने के बाद मैं बच जाऊंगा लेकिन वह मित्र बोलता है कि मुझे कुछ भी नहीं किया था मुझे खाली इतना पता था कि जो होता है अच्छे के लिए ही होता है बस मैं इसी के पद पर चल रहा था और आप मेरी बात समझ नहीं रहे थे मुझे दोसी समझ रहा था आपने मुझे कारागार में डाल दिया मैं आपका मित्र हूं आपके साथ कुछ गलत नहीं करूंगा अनुचित नहीं करूंगा!

 

Best Motivational story और यह कहानी आपको अगर थोड़ी सी भी अच्छी लगी है तो जरूर एक कमेंट करें और मुझे बताएं आपको अगली कहानी किस टॉपिक पर चाहिए तो मैं आपको जरूर से लाकर दूंगा और ऐसी ही नई नई कहानियों के लिए इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर ले जरूर से जरूर सब्सक्राइब बटन दबा दे आपके ख्वाबों में पॉप आइकन आएगा उसे क्लिक कर दें!! 🙏

motivation kahani part2 का रोचक किस्सा पार्ट 2 । हनुमान जी कि वजह से अर्जुन को करनी पड़ी आत्मदाह करनी कोशिश।

 महाभारत का रोचक किस्सा पार्ट 2 पहले वाला तो आप लॉगो ने पढ़ा होगा नहीं पढ़ा हे तो जरूर जाकर पड़े क्योकि आपको।तुरत ये वाला पड़े जी तो मजा नहीं आएगा। इसलिए जाकर तुरंत पड़े। cleakHereहनुमान जी कि वजह से अर्जुन को करनी पड़ी आत्मदाह करनी कोशिश।

महाभारत का रोचक किस्सा पार्ट 2 ।motivation kahani

(”कहानी का 2nd part)”हनुमान जी कि वजह से अर्जुन को करनी पड़ी आत्मदाह करनी कोशिश।ka part2
”(Start)”तो अर्जुन नहीं मानतेे हे। बोले में एक छात्ररी हो
मे अपने वचन से पीछे नहीं हट सकता हो मैंने आपको वचन दिया था। तो मे वचन का पालन भी करोगा मे आत्मदाह करने जा रहा हो और कोई मुझे रोके गा नहीं। तो हनुमान जी चिन्तित हो जाते कि आज लग रहा कि प्राण त्याग हि देंगे।तो मन हि मन हनुमान जी कृष्ण जी को याद करते हे कहते हे कि प्रभु आइए आकर अपने भक्त को बचा लो। क्योकि मैंने कितना प्यास किया परन्तु वो हि कि मानने को तैयार हि नहीं हे। अब आप हि कुछ कर सकते हे। महाभारत का रोचक किस्सा पार्ट 2 । तो।
कृष्ण भगवन वाहा पर एक ब्राह्मण का रूप लेकर आ जाते हे।
फिर वाहा पर अर्जुन तो भैया लगे लकडिया इक्ट्ठा करके आग लगाने।तो कृष्ण भगवान बोलते हि कि क्या बालक यहाँ रोटियां बनाने जा रहे हो क्या तो अर्जुन। बोले रोटियां बनाने वाला हि जा रहा हे। motivation kahani
महाभारत का रोचक किस्सा पार्ट 2 ।  तो। कृष्ण जी बोलते हे कि।  क्या हुआ किसलिए मरने जा रहे हो बालक ।
अर्जुन बोलते हे कि मेरे और इनके बीच एक शर्त  लगी थी। जिसमें मे हार गया हूँ। वचन अनुसार मुझे अपने प्राण त्यागने हि होंगे। अन्यथा मेरे वचन का अपमान होगा। अब मे अपने वचन से पीछे नहीं हट सकता हूँ। तो कृष्ण भगवान बोलते हि तुम्हरे बीच शर्त लगी थी कोई निर्णय वाला था क्या तुम्हीं लॉगो ने शर्त लगायी और निर्णय भी खुदी कर लिया कोई निर्णय लेने वाला नहीं था क्या। चलो फिर से एक बार दुबारा करके दिखओ अब मे निर्णय लूँगा। ठीक हर ना। तो फिर से अर्जुन अपने बाढ़ निकलते हे और एक शानदार सा पुल तैयार कर देते हे। फिर हनुमान जी कि बारी आति हे। फिर अपना रूप बाढ़ते हे। जैसे हि श्री कृष्ण देखते हे। तो तुरंत कछुआ का रूप् लेकर पुल के नीचे बैठ जाते हे। और हनुमान जी पूरा पुल पर कर जाते ह। फिर भी पुल मे कुछ नहीं होता हे। तो हनुमान जी अछ्म्भित् हो जाते हे कि पुल टूटा क्यूँ नहीं महाभारत का रोचक किस्सा पार्ट 2 अर्जुन और हनुमान जी। के बीच लगी शर्त।��”कहानी।

तो फिर यह देखते हे कि  कछुए का रूप लेकर। पुल के नीचे बैठे हे तो हनुमान जी कहते। हे कि। अच्छा प्रभु यहाँ खेल सभाल रखा हे। कहते हे ठीक हे मे ये शर्त हार गया हो। बताओ मे क्या करो जो तुम कहो जी मे करने को तैयार हो बताओ क्या करो। तो अर्जुन बोलने हि जा रहे होते हे कि। कृष्ण जी रोक देते हे। यह कहकर कि समय आने पर इसका इस्तेमाल करगे। बस वचन भूलना मत। यह कहकर चलें जाते हे।motivation kahani.
महाभारत का युद्ध।फिर अर्जुन और करण के मधय् युद्ध चल रहा होता हे। तब कृष्ण भगवान अर्जुन से बोलते हे । चलो अब उसको। बुला लेेते हे अब उसकी।  जरूत हे। तो 
अर्जुन बोलते हे कि हम मानव हे। हमे उस वानर कि क्या जरूरत हे। कृष्णा भगवान बोलते हे कि हम क्या त्रेता युग मे   श्री राम जी को जररूत थी उनकी। चलो चलते हे उनको लेने। फिर वो आते हे और अर्जुन के रथ पर धजा के रूप मे विराजमान हो जाते हे। तभी अर्जुन के रथ का नाम कपिध्य्जा काहा जाता हे। motivation kahani
          ।❤️सभी लोगों का दिल से धन्यवाद।❤️